पीड़िता के परिजनों से मोबाइल पर बोले दरोगा साहब!, आरोपियों को पकड़वाना है तो कार व डीजल का करो बंदोबस्त!

पीड़िता के परिजनों से मोबाइल पर बोले दरोगा साहब!, आरोपियों को पकड़वाना है तो कार व डीजल का करो बंदोबस्त!

जालौन। कदौरा पुलिस का नया कारनामा देखिए, आरोपियो को पकड़ने के लिए पीड़िता के परिजनों से गाड़ी व डीजल के नाम पर सुविधा शुल्क की मांग की जाती है। कुछ ऐसा ही एक आडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। जिसमे एक दरोगा आरोपियो को पकड़ने के लिए पीड़िता के भाई से डीजल व गाड़ी के नाम पर सुविधा शुल्क मांग रहा है। पीड़िता के भाई का आरोप है की उसने एक बार उक्त दरोगा को तीन हजार रुपए दोस्त के नंबर से ट्रांसफर भी कराए थे। 

कदौरा के मोहल्ला इस्लामाबाद निवासी शहीद अहमद की पुत्री रेहाना खातून ने बताया कि उसकी शादी 27 अप्रैल 2017 ग्राम जिनई बनीपारा थाना रूरा,ब्लाक झीझक कानपुर देहात निवासी अनवर अली के पुत्र नौशाद अली के साथ मुस्लिम रीति रिवाज के साथ हुई थी। 

शादी के कुछ दिनों बाद से ही ससुर अनवर अली व देवर आरिफ अली,सास आयशा अतिरिक्त दहेज के रूप में पांच  लाख रुपए की मांग को लेकर शरीरिक व मानसिक प्रताड़ना करने लगे। जिसका पति ने विरोध  करते थे। 6 माह पूर्व अचानक पति नौशाद अली की तबियत खराब हो जाने पर ससुरालीजनों ने उसे जबरन मायके भिजवा कर रुपए लाने के लिए कहा,ससुरालीजनो ने पति का इलाज नहीं कराया।

 पति नौशाद अली की 4 जून 2023 को मौत हो गई। पति की मौत पर जब प्रार्थनी अपने माता पिता के साथ ससुराल पहुंची तो उक्त लोग प्रताड़ित करने लगे और झगड़ा करते हुए रिस्तेदारो के सामने ही भगाने लगे।

जिसका मेरे माता पिता ने विरोध किया तो ससुर अनवर अली, सास आयशा, देवर आरिफ अली, ननद रिजवाना पत्नी बबलू निवासी भरथना इटावा, शबाना पत्नी अकरम अली निवासी असालतगंज थाना रसूलाबाद मारपीट करने पर आमादा हो गए और कहने लगे की मेरे घर से निकल जाओ तुम्हारा इस घर में कुछ नही है।

 मेरे पिता द्वारा जब उक्त लोगों से आरजू मिन्नतें कीं तो कहने लगे की 5 लाख रुपए लेकर आओ तभी घर पर रहने को मिलेगा। और जान से मारने की धमकी देते हुए घर से निकाल दिया। महिला के दो पुत्र है, एक पुत्र पांच वर्ष व दूसरा दो माह का है,घर से निकालने के दौरान वह सात माह की गर्भवती थी। 

मौत के एक दिन बाद ससुर और देवर ने फर्जी तरीके से पति के खाते से डेढ़ लाख रुपए निकाल लिए कई बार परिजनों के समझाने पर उक्त लोग नही माने तो 5 सितंबर को कदौरा थाने में ससुरालीजनो के खिलाफ धारा 498 ए,506 व 3/4 के तहत मामला दर्ज किया गया। लेकिन आरोपी को पकड़ने के लिए विवेचक द्वारा डीजल व गाड़ी के नाम पर सुविधा शुल्क की मांग की जा रही है। 

पीड़िता के भाई रईस अहमद ने बताया की विवेचक कुलवंत यादव द्वारा मांगी गई रकम पर एक बार उसने तीन हजार रुपए दे दिए थे। लेकिन उसने कोई कार्यवाही नहीं की जब भी कार्यवाही के बारे में पूछा जाता है तो उससे फिर सुविधा शुल्क की मांग की जाती है। जिसकी शिकायत एसओ अजय कुमार सिंह से की थी। लेकिन उसके बाद भी विवेचक अपनी मनमानी करने पर उतारू है। 

सुनवाई न होने से परेशान है पीड़िता

शिकायत करने वाली महिला ने बताया कि मुकदमे में क्या कार्यवाही हो रही है,उसके पूछने पर टरकाया जाता है। उसने कई बार सीएम पोर्टल में शिकायत भी दर्ज कराई। लेकिन फिर भी उसको कोई जानकारी नहीं दी जा रही है। केस इंचार्ज कुलवंत यादव भी कानपुर देहात के निवासी है। इसलिए वह खानापूर्ति करने में लगे हुए है। आरोपियों का पक्ष ले रहे है। गुरुवार को जब उसने महिला हेल्पलाइन में फोन किया तो विवेचक अभद्रता पर उतारू हो गया।

यह भी पढ़े: मिलेट्स महोत्सव: कृषि वैज्ञानिक बताएंगे श्री अन्न के फायदे, किसानों को मोटा अनाज उपजाने को किया जाएगा प्रेरित

Online Jobs Apply