संविधान दिवस पर मंत्री सुरेश खन्ना ने पढ़ा उद्देशिका, कहा- अधिकारों को समझें और पालन करें

संविधान दिवस पर मंत्री सुरेश खन्ना ने पढ़ा उद्देशिका, कहा- अधिकारों को समझें और पालन करें

लखनऊ, अमृत विचार। संविधान दिवस के अवसर पर वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने लोक भवन के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में संविधान की आत्मा उद्देशिका को पढ़ा। इस मौके पर सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि 26 जनवरी, 1950 को संविधान हमारे देश में लागू हुआ, लेकिन संविधान सभा ने 26 नवंबर, 1949 को पारित किया था। 

उन्होंने कहा कि साल 2015 से पहले संविधान दिवस मनाने के लिए किसी ने विचार नहीं किया। लेकिन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी धन्यवाद के पात्र हैं, जिन्होंने पूरे देश में संविधान दिवस के अवसर पर एक भव्य कार्यक्रम के रूप में मनाए जाने के लिए प्रेरित किया। जिससे देश के लोगों संविधान की महत्ता एवं कर्तव्य बोध समझ सकें। 

सुरेश खन्ना ने आगे कहा कि संविधान की प्रस्तावना के साथ मौलिक कर्तव्यों का भी विशेष महत्व है। हम अधिकारों की बात तो करते हैं लेकिन अधिकार तब तक नहीं मिल सकते जब तक उससे जुड़े लोग अपने कर्तव्य का पालन न करें।

उन्होंने आगे कहा कि हमारे संविधान निर्माताओं ने दुनिया के संविधान में जो अच्छी चीजें थी उसको भारतीय संविधान में समाहित किया है। संविधान कितना भी अच्छा क्यों ना हो, उसे लागू करने वाले की इच्छा और काम करने का तरीका ही प्रभावी रहता है। 

वहीं संविधान दिवस के अवसर पर भाषण प्रतियोगिता में दिल्ली पब्लिक स्कूल जानकीपुरम विस्तार की पारखी मिश्रा, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज मलिहाबाद की बुशरा हसीन तथा शिया पीजी कॉलेज की सपना सिंह को प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया। निबंध प्रतियोगिता में बेसिक विद्यालय खुशाल गंज, काकोरी की काजल रावत, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज की सलोनी जयसवाल व शिया पीजी कॉलेज के हीरा मलिक को प्रथम पुरस्कार दिया  गया।

ये भी पढ़ें -देव दीपावली कल, लाखों दीयों से रोशन होंगे काशी के घाट - CM योगी करेंगे मेहमानों का स्वागत

Online Jobs Apply