पीलीभीत: वाह रे वन विभाग...ग्रामीण बोले - पिपरिया में बाघ, टीम नवदिया से करती रही निगरानी!

पीलीभीत: वाह रे वन विभाग...ग्रामीण बोले - पिपरिया में बाघ, टीम नवदिया से करती रही निगरानी!

पीलीभीत /माधोटांडा, अमृत विचार। जंगल के बाहर आबादी में घूम रहे बाघ की निगरानी को लेकर भले वन विभाग तमाम दावे कर रहा हो लेकिन सोमवार को पिपरिया संतोष से जो तस्वीर सामने आई उसने जिम्मेदारों की गंभीरता पर सवाल खड़े कर दिए। दिनभर ग्रामीण बाघ को खेत में घेरे रहे। कई बार बाघ ने खेत से बाहर आकर भीड़ पर हमला करने की कोशिश भी की। मगर जिम्मेदार नदारद दिखे। सिर्फ निगरानी टीम के होने का दावा किया जाता था। 

बता दें कि पिपरिया संतोष गांव में पिछले कई दिनों से बाघ आबादी से 200 मीटर की दूरी पर गन्ने के खेतों में डेरा जमाए हुए है। लोग खेतों में जाने से बच रहे है और खेती बाड़ी प्रभावित चल रही है। आरोप है कि बाघ पिपरिया संतोष गांव में है और निगरानी टीम एक किलोमीटर दूर नवदिया गांव से निगरानी की औपचारिकता पूरी कर रही है। सोमवार को बाघ खेत में था। 

ग्रामीणों ने खेत को घेर लिया और काफी नजदीक भीड़ पहुंच गई। मगर उस वक्त भी कोई वन विभाग का अधिकारी नहीं पहुंचा। टीम भी नदारद रही। इसके बाद एक टूरिस्ट को लेकर आई गाड़ी भी मौके पर दिखाई दी। जिस पर भी सवाल उठाए जाते रहे। बताते हैं कि बाघ कई बार खेत से बाहर आकर ग्रामेनों पर हमलावर भी होता रहा। सामाजिक वानिकी के डीएफओ संजीव कुमार में बताया कि लापरवाही के आरोप गलत है। निगरानी टीम मौके पर लगी हुई है। बाघ को पकड़ने की अनुमति को लेकर भी पत्राचार किया गया है।

ये भी पढ़ें- पीलीभीत: युवती ने नहीं की बात तो एसिड से चेहरा बिगाड़ने की दी धमकी, रिपोर्ट दर्ज

Online Jobs Apply