लखनऊ : नियुक्ति की मांग लेकर पहुंचे फार्मासिस्ट, मुख्यमंत्री के ओएसडी से मिल बताई समस्या

लखनऊ : नियुक्ति की मांग लेकर पहुंचे फार्मासिस्ट, मुख्यमंत्री के ओएसडी से मिल बताई समस्या

लखनऊ, अमृत विचार। चयनित होम्योपैथिक फार्मासिस्ट शनिवार को एक बार फिर अपनी मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन करने मुख्यमंत्री आवास पहुंचे। इस दौरान मुख्यमंत्री आवास चौराहे पर होम्योपैथिक फार्मासिस्टों का प्रदर्शन पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर जबरन रोक दिया। इसके बाद प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने बस में बैठाकर इको गार्डन छोड़ा दिया। इस दौरान करीब तीन अभ्यर्थियों को पुलिस ने रोके रखा बाद में मुख्यमंत्री आवास पर ले जाकर ओएसडी से मुलाकात कराया।

मुख्यमंत्री के ओएसडी से मिलने के बाद चयनित होम्योपैथिक फार्मासिस्ट के सदस्यों ने चयन प्रक्रिया पूरी कराने की मांग की। जिस पर मुख्यमंत्री के ओएसडी ने जल्द से जल्द मामले के निस्तारण की बात कही। इधर चयनित होम्योपैथिक फार्मासिस्ट अभ्यर्थियों का अपनी मांगों को लेकर इको गार्डन में अनवरत चलने वाले आमरण अनशन का आज तीसरा दिन है। अभ्यर्थियों की माने तो उनका अमरण अनशन और प्रदर्शन नियुक्ति मिलने तक जारी रहेगा।

दरअसल, शनिवार को फार्मासिस्ट अभ्यर्थी मुख्यमंत्री आवास पर विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे, विरोध प्रदर्शन करता देख पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर सभी अभ्यर्थियों को खदेड़ने की कोशिश की, लेकिन मीडिया के कैमरों के बीच पुलिस ने अपनी आक्रामकता कम की। विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस बल ने फार्मासिस्ट अभ्यर्थियों को बस में बैठाकर इको गार्डन वापस भेज दिया ।

इस पर चयनित अभ्यर्थियों ने शासन और प्रशासन पर ज्यादिती का आरोप लगाया है। फार्मेसिस्ट फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव ने कहा कि पुलिस द्वारा जबरिया हिरासत में लेना और बल प्रयोग करना लोकतंत्र में उचित नहीं कहा जा सकता है अच्छा होता की प्रदर्शनकारियों को समझा-बुझाकर उनकी मांग के अनुरूप अधिकारियों से मिलवा दिया जाता । उन्होंने अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड के अध्यक्ष से अनुरोध किया कि न्यायालय में प्रभावी पैरवी करने के लिए अपने अधिकारियों को निर्देशित करें। जिससे चयनित होम्योपैथिक फार्मासिस्ट की नियुक्तियां की जा सके।

बता दें 2019 से नियुक्ति की राह देख रहे चयनित होम्योपैथिक फार्मासिस्ट अभ्यर्थियों के सब्र का बांध टूट गया। नियुक्ति का इंतजार कर रहे फार्मासिस्ट अभ्यर्थियों ने गुरुवार को इको गार्डन में आमरण अनशन शुरू किया था । आमरण अनशन पर बैठे अभ्यर्थियों ने पहले शुक्रवार और आज यानी शनिवार को राजधानी के सड़कों पर उतरकर अपना विरोध जताया है।

यह भी पढ़ें : लखनऊ : ऊर्जा मंत्री के अल्टीमेटम पर शैलेन्द्र दुबे का पलटवार, कहा- चाहे जो हो जाये हड़ताल से नहीं हटेंगे 'सरकार'