मुरादाबाद : बिना स्वेटर सर्दी में ठिठुर रहे बच्चे, जिम्मेदार कर रहे अनदेखी

लापरवाही: सत्र के बीते आठ महीने, अधिकांश बच्चों को नहीं मिली यूनिफार्म

मुरादाबाद : बिना स्वेटर सर्दी में ठिठुर रहे बच्चे, जिम्मेदार कर रहे अनदेखी

मुरादाबाद, अमृत विचार। मौजूदा शिक्षा सत्र के आठ महीने बीत चुके हैं। लेकिन, अभी भी बड़ी संख्या बच्चों को यूनिफार्म का पैसा नहीं मिला है। जिस वजह से बालक-बालिकाएं बच्चे ठंड में बिना स्टेवटर, जूता-मोजा के स्कूल में ठिठुर रहे हैं। जिससे बच्चों के बीमार होने का खतरा बढ़ गया है। इसका असर बच्चों की उपस्थिति पर पड़ रहा है। सर्दियां शुरू होने के बाद अधिकांश स्कूलों में 50 प्रतिशत से भी ज्यादा बच्चे नहीं पहुंच रहे हैं।

कहने को तो प्रदेश सरकार बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में बच्चों को सभी मूलभूत सुविधाएं देने के लिए हर प्रयास कर रही हैं। लेकिन, धरातल पर अधिकांश बालक-बालिकाएं प्रमुख सुविधाओं से वंचित हैं। जिले में 1401 परिषदीय विद्यालय है। जिनमें 1,81,904 विद्यार्थियों का पंजीकरण है। जिनमें जुलाई में लगभग 1,35,000 बच्चों के अभिभावकों के खाते में डीबीटी के माध्यम से यूनिफार्म के लिए धनराशि आ चुकी हैं। मगर शेष 46,904 बच्चों के अभिभावकों के खाते में धनराशि नहीं पहुंची है। जिस वजह से बच्चों को ठंड में बिना स्वेटर, जूता-मोजा के स्कूल आना पड़ रहा है तो कुछ बच्चे ऐसे भी हैं जिनके अभिभावकों ने खाते में 1200 रुपये तो आए, लेकिन उन्होंने उसे घर खर्च में उठा दिया और अब बच्चे बिना ड्रेस के स्कूल आने को विवश हैं।

प्राथमिक विद्यालय कन्या दांग @ 11:25 बजे
बीएसए कार्यालय के नजदीक प्राथमिक विद्यालय दांग में 85 बच्चों का पंजीकरण है। लेकिन, शुक्रवार को सिर्फ 30 बच्चे ही उपस्थित मिले। प्रधानाध्यापिका तनुश्री मित्तल स्कूल में मौजूद मिलीं। उन्होंने बताया कि स्कूल में तीन शिक्षकों का स्टॉफ है। जिनमें शिक्षा मित्र शालिनी सिंह स्कूल में मौजूद है। जबकि शैला नसीम छुट्टी पर है। कहा कि इन दिनों शादियां काफी है। इसलिए स्कूल में बच्चे अधिक नहीं आ रहे हैं। यहां अधिकांश बच्चों के अभिभावकों के खाते में यूनिफार्म का पैसा पहुंच गया है। लेकिन, कक्षाओं में बहुत से ऐसे बच्चे बैठे थे। जिनके पास स्वेटर नहीं था।

कंपोजिट विद्यालय दांग @ 11:50 बजे
कंपोजिट विद्यालय दांग में शिक्षिका टीना रानी वर्मा कक्षा में पढ़ा रही थीं। उन्होंने बताया कि प्रधानाध्यापक तहबूर हुसैन प्रशिक्षण पर गए हुए हैं। जबकि सहायक शिक्षिका अमिता गुप्ता छुट्टी पर हैं। इस समय स्कूल में इनके अलावा शिक्षिका सुरभि सिंह मौजूद मिलीं। यहां कुल 113 बच्चों का पंजीकरण है। लेकिन, स्कूल में 32 बच्चे आए थे। जिनमें बहुत से बच्चों ने स्वेटर, जूता-मोजा नहीं पहना था। टीना रानी वर्मा ने बताया कि यहां अधिकांश बच्चे मुस्लिम क्षेत्र से आते हैं। शुक्रवार होने के कारण अधिकांश बच्चे नहीं आए हैं। यहां किसी भी कक्षा में प्रकाश व्यवस्था नहीं थी। अंधेरे में ही बच्चे पढ़ाई को मजबूर थे। शिक्षिका ने बताया कि बिजली चले जाने के बाद कक्षा में अंधेरा हो जाता है।

उम्मीद है कि इस माह जिन बच्चों के अभिभावकों के खाते में यूनिफार्म की धनराशि नहीं आई है, उनके खातों में जल्द धनराशि पहुंच जाएगी। जिन स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति कम हैं। वहां के प्रधानाध्यापकों को कक्षाओं में उपस्थिति बढ़ाने के निर्देश जारी किए गए हैं। - अजीत कुमार, बेसिक शिक्षा अधिकारी

ये भी पढ़ें:- मुरादाबाद: किसानों से संपर्क कर बढ़ाएं धान खरीद, हर हाल में लक्ष्य हासिल करें

ताजा समाचार

बरेली: कचहरी पर दो दुकानों में चोरी, हजारों का सामान चोर लेकर हुए फरार
संकल्प पत्र में समाहित होगा विकसित भारत का जन सुझाव :सांसद 
गरीब को न्याय कहां मिलता है साहब! संपूर्ण समाधान दिवस पर पहुंचे फरियादियों ने बयां किया दर्द
सुलतानपुर: वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पाक्सो कोर्ट में हुई डॉक्टर की गवाही, आरोपी के वकील के साथ हुई खूब जिरह!
RTE Admission 2024: दूसरे चरण के आवेदन हुए शुरू; पहले चरण में चूके अभिभावकों को मिला दूसरा मौका
मशहूर पॉप स्टार रिहाना ने अनंत अंबानी-राधिका के ‘प्री वेडिंग’ कार्यक्रम में मचाई धूम, प्रस्तुति से मोह लिया सबका मन
Online Jobs Apply