बरेली: पिछड़े वर्गों के मानव अधिकार संरक्षण पर किया शोध

बरेली: पिछड़े वर्गों के मानव अधिकार संरक्षण पर किया शोध

बरेली, अमृत विचार। रुहेलखंड विश्वविद्यालय के विधि विभाग में शोध छात्र कमल किशोर की पीएचडी की मौखिकी हुई। कमल किशोर ने सामाजिक एवं शैक्षिक रूप से पिछड़े वर्गों के मानव अधिकार संरक्षण के लिए राज्य मानवाधिकार आयोग उत्तर प्रदेश की भूमिका-एक सामाजिक विधिक अध्ययन" पर शोध प्रो. एके सिंह संकायाध्यक्ष के निर्देशन में पूरा किया।

शोधार्थी ने राज्यों में मानव अधिकार संरक्षण को लेकर सुझाव दिए। इसमें कर्मचारियों की आवश्यकता, मानव अधिकार संरक्षण अधिकारी के पद के सृजन और जांच कमेटी के सुदृढ़ीकरण का सुझाव दिए। बाह्य परीक्षक के रूप में प्रो. मोहम्मद तारिक विधि विभाग अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी मौजूद थे। इस मौके पर विधि विभागाध्यक्ष डॉ. अमित सिंह, प्रो. गुरमीत सिंह, डॉ. शहनाज अख्तर, नईमुद्दीन, अमित कुमार सिंह, डॉ लक्ष्य लता, रविकर यादव, अनुष्का मूलचंदानी, राष्ट्रवर्धन, प्रवीन कृष्ण चौहान आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें- बरेली: एयरपोर्ट के पास 86 बीघा में बन रही पांच अवैध कॉलोनियों पर चला बुलडोजर

ताजा समाचार

अयोध्या: ज्येष्ठ माह के अंतिम मंगलवार को हनुमान मंदिरों में उमड़ी आस्था, जगह-जगह लगे भंडारे
बरेली: ट्रांसफार्मर में लगी आग से मचा हड़कंप, फायर ब्रिगेड की गाड़ी ने पाया काबू
अयोध्या: प्रोफेसर पति सहित सास और देवर के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज, दो दिन पहले पत्नी का शव फंदे से लटकता मिला था
हिमाचल में कांस्टेबल के 1226 पदों पर भर्ती, उम्मीदवारों को आयु में एक वर्ष छूट 
Kanpur: हेड कांस्टेबल की मौत की वजह स्पष्ट नहीं, नाले में मिला था शव, बेटे ने लगाया हत्या का आरोप, पढ़ें पूरा मामला
AKTU में हुआ 120 करोड़ का हेर-फेर, जालसाजों का हुआ खुलासा