बरेली: तेज बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को हुआ नुकसान

बरेली: तेज बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को हुआ नुकसान

बरेली, अमृत विचार। पश्चिमी विक्षोभ की वजह से सोमवार रात से शुरू हुई बारिश मंगलवार देर रात तक जारी रही। रात में तेज बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को भी नुकसान पहुंचा है। दिन भर बूंदाबांदी जारी रही। दोपहर में हल्की धूप निकली लेकिन फिर से बादल छा गए। शाम तक 13 मिली लीटर तक बारिश रिकॉर्ड हुई। इस दौरान राजेंद्र नगर, सौ फुटा रोड, महानगर, कर्मचारी नगर, बसंत विहार, पीलीभीत बाईपास, गांधीपुरम के अलावा शहर के अन्य हिस्सों और देहात क्षेत्र में बारिश हुई।

ये भी पढे़ं- बरेली: चार साल की लंबी जांच, समिति भंग होने से शिक्षक-कर्मचारी खुश

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार बुधवार को हल्की बूंदाबांदी के बाद मौसम साफ हो जाएगा। जिसके बाद ठंड के असर में लगातार कमी आएगी। मंगलवार को जिले का अधिकतम तापमान 17.9 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 13.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, सुबह के समय हवा में 95 प्रतिशत व शाम के समय 94 प्रति आर्द्रता दर्ज की गई।

पंतनगर यूनिवर्सिटी के मौसम वैज्ञानिक डा. आरके सिंह ने बताया कि अरब सागर पर बने पश्चिमी विक्षोभ सिस्टम का असर हल्का होने लगा है, जिसका बहुत कम असर बुधवार को देखने को मिल सकता है। बुधवार को करीब 2-5 मिलीमीटर बारिश होने की संभावना जताई जा रही है। वहीं, गुरुवार के बाद मौसम साफ रहेगा। हालांकि 29 व 30 जनवरी को पुन: बारिश होने के आसार लग रहे हैं। इस दौरान अधिकतम तापमान 24 डिग्री व न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस रहने का पूर्वानुमान है।

गेहूं की फसल को फायदा
जिले में मंगलवार को बारिश होने से गेहूं की फसल को फायदा होगा। किसानों की सिंचाई का खर्च भी बच गया है। आलू के लिए भी फसल फायदेमंद साबित हो सकती है लेकिन सरसों की फसल के तेज बारिश और ओलावृष्टि से काफी नुकसान पहुंचा है। कई जगह सरसों खेत में गिर गई है तो कहीं सरसों का फूल झड़ गया तो कहीं बालियां भी टूटकर गिरी हैं। इससे किसान चिंतित हैं।

ये भी पढे़ं- बरेली: शार्ट सर्किट से लगी कैमरे की दुकान में आग, लाखों का नुकसान

 

Post Comment

Comment List